AEPS Full Form in Hindi | AEPS क्या है और ये कैसे काम करता है।

नमस्कार दोस्तों स्वागत है हमारे वेबसाइट पर आज इस पोस्ट में हम बात करेंगे AEPS क्या है और ये कैसे काम करता है (AEPS Full Form in Hindi) आप सब ने अपने आस पास अक्सर लोगो को देखा होगा आधार कार्ड के माध्यम से पैसे निकालते हुए और किसी दूसरे के बैंक अकाउंट में पैसे भेजते हुए। 

अब आपके मन मे सवाल आएगा कि आखिर में आप अपने Aadhar Card के माध्यम से पैसे निकालते कैसे हैं और पैसे दूसरे को भेजते कैसे है। इसके लिए किस प्रकार के सिस्टम का इस्तेमाल होता है तो मैं आपको बता दूं कि इसके लिए AEPS का प्रयोग किया जाता है। इसी सिस्टम के द्वारा आप अपने पैसे एक बैंक अकाउंट से दूसरी बैंक अकाउंट में भेज पाते हैं और साथ में आप अपने पैसे अकाउंट से निकाल भी सकते है।

तो आइये जानते है कि AEPS काम कैसे करता है इसका पूरा नाम क्या है ? AEPS का मुख्य लाभ क्या है अगर आप इसके बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं है मैं आपसे अनुरोध करूंगा कि इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े। 

AEPS क्या है? (AEPS kya hai)

aeps full form in hindi
aeps full form in hindi

AEPS, नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) के द्वारा डेवेलोप किया हुआ एक पेमेंट सिस्टम है। इस सिस्टम के द्वारा ही आप आधार कार्ड के माध्यम से पैसे निकालते हैं और साथ में अगर आपको किसी व्यक्ति को पैसे भेजने हैं तो आप आसानी से भेज भी पाते हैं। इसके लिए जब आप माइक्रो एटीएम में पैसे आधार कार्ड के माध्यम से निकालने के लिए जाते हैं।

तो वहां पर सबसे पहले आप का फिंगरप्रिंट, आँखों का स्कैन करवा कर वेरिफिकेशन प्रक्रिया को पूरा करता है उसके बाद ही आपको पैसे प्राप्त होते हैं। इस प्रकार की प्रक्रिया में आपको अपना बैंक अकाउंट नंबर या उससे जुड़ी हुई किसी प्रकार की कोई भी डॉक्यूमेंट की जरूरत नहीं पड़ती है।

बल्कि आपको अपना आधार कार्ड अपने साथ ले जाना होता है और वहां पर आप अपने फिंगरप्रिंट के माध्यम से पैसे आसानी से अपने बैंक अकाउंट से निकाल सकते हैं इसके अलावा अगर आपको पैसे किसी व्यक्ति को भेजने है तो आप AEPS सिस्टम का इस्तेमाल कर पाएंगे और पैसे आसानी से भेज सकते हैं।

AEPS Full Form in Hindi

AEPS का फुल फॉर्म “Aadhar Enable Payment System” होता है। इसे हिंदी में “आधार सक्षम भुगतान प्रणाली” कहा जाता हैं। 

AEPS कैसे काम करता है?

अब आपके मन मे सवाल आएगा कि आखिर मे ये काम कैसे करता है तो मैं आपको बता दूं जब आप माइक्रो एटीएम में पैसे निकालने के लिए जाते हैं तो सबसे पहले आपको वहां पर अपना आधार नंबर डालना होता है उसके बाद आप के अंगुलियों को स्कैन किया जाता है उसके बाद जो डाटा आपका आधार कार्ड बनाते समय यहां पर सेव किया गया है। 

उन डाटा को यहां पर मिलान किया जाएगा अगर आपका डाटा का यहां पर मिलान नहीं होता है तो आप इस प्रणाली के माध्यम से पैसे नहीं निकाल पाएंगे। सबसे महत्वपूर्ण बात कि अगर आप इस प्रणाली के माध्यम से पैसे निकालना चाहते हैं तो आपका आधार नंबर बैंक अकाउंट के साथ लिंक होना चाहिए तभी जाकर आप इस प्रणाली से पैसे निकाल सकते हैं और पैसे दूसरे व्यक्ति को भेज सकते हैं। 

AEPS के लाभ

  • घर बैठे आप आसानी से पैसे दूसरे व्यक्ति को भेज सकते हैं। 
  • इसके लिए आपको बैंक की शाखा या उसके एटीएम में जाने की जरूरत नहीं है। 
  • यहां से पैसे निकालने के लिए आपको कोई भी अतिरिक्त चार्ज देना नहीं पड़ता है। 
  • इसमें पैसे आप काफी तेजी और सुरक्षित ढंग से से निकाल या भेज सकते हैं। 
  • यहां पर पैसे निकालने के लिए कोई आवेदन form भरने की जरूरत नहीं है। 
  • इस सिस्टम से पैसे निकालने के लिए आपके पास आधार कार्ड और फिंगरप्रिंट का होना आवश्यक है तभी आप यहां से पैसे निकाल पाएंगे। 

AEPS में मिलने वाली सुविधाएं

  • AEPS सिस्टम के माध्यम से आप पैसे निकाल सकते हैं या आप चाहे तो पैसे यहां पर जमा कर सकते हैं. आपके बैंक अकाउंट में कितना पैसा है वह भी आप इसके माध्यम से चेक कर सकते हैं अगर आपको आधार फंड के माध्यम से पैसे ट्रांसफर करना है तो उसकी सुविधा भी आपको यहां पर भी जाती है। 
  • बैंक के मिनी स्टेटमेंट AEPS प्रणाली के माध्यम से निकाल सकते हैं। 
  • AEPS सिस्टम को शुरू करने के पीछे सरकार का प्रमुख मकसद ग्रामीण क्षेत्र में लोगों की तकलीफों और दिक्कतों को  कम करना है जैसा कि आप लोग जानते हैं कि ग्रामीण क्षेत्र में बैंकों भारी कमी होती है ऐसे में अगर उन्हें पैसे निकालने हैं तो काफी दूरदराज शहर के बैंक में जाना पड़ता है उनकी समय की बर्बादी होती है इन सब बातों को ध्यान में रखकर इस सिस्टम को विकसित किया गया है ताकि ग्रामीण क्षेत्र के लोग आधार कार्ड के माध्यम से पैसे आसानी से निकाल सके। 
  • AEPS सिस्टम के आने से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को पैसे लेनदेन करने में काफी आसानी हो गई है। 

AEPS के जरिये लेनदेन करने के लिए किन चीजों की जरूरत होती है?

AEPS सिस्टम के माध्यम से पैसे का लेनदेन करना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास निम्नलिखित चीजों का होना आवश्यक है जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं। 

  • आधार कार्ड का नंबर
  • बैंक खाता धारक का फिंगरप्रिंट
  • बैंक खाता धारक का आईरिस स्कैन (आँखों की पुतली का स्कैन)
  • बैंक शाखा का नाम और INN नंबर
  • AePS operator
  • Micro ATM या POS मशीन बायोमैट्रिक मशीन के साथ

AEPS का इस्तेमाल कैसे करें?

AEPS का इस्तेमाल आप निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो कर किया जा सकता है। 

  • सबसे पहले आप अपने नजदीकी बैंक मित्र (Bank Correspondent) के पास जाए। 
  • फिर वहां पर मौजूद pos मशीन में अपना आधार संख्या दर्ज कीजिये। 
  • इसके बाद Transction की प्रक्रिया को चुने – नकद जमा, नगद निकासी, मिनी स्टेटमेंट,फंड ट्रांसफर, बैलेंस इंक्वायरी या eKYC में से 
  • ऊपर वाले ऑप्शन चुनने के बाद अपना बैंक का नाम चुने 
  • इसके बाद ट्रांजेक्शन के लिए पैसे दर्ज करें
  • इसके बाद अपना फिंगर प्रिंट, आईरिस स्कैन कर ट्रांसक्शन को वेरीफाई करे। 
  • आपकी पहचान की वेरिफिकेशन हो जाने के बाद ट्रांसक्शन हो जायेगा। 
  • इसके बाद पैसे लेन देन की रशीद ले ले।AEPS फंड ट्रांसफर लिमिट कितना है?

AEPS सिस्टम शुरू करने का उद्देश्य क्या है?

सरकार ने सभी देशवासियों बैंकिंग सिस्टम से जोड़ने का लक्ष्य रखा है। क्यूंकि ये बात आप भी जानते है की शहरों में बैंकिंग सुविधाएँ तो बहुत ही बढ़िया या पर पिछड़ें गांव या दुर्गम इलाके में अभी भी बैंकिंग सुविधाएँ की भारी कमी है। और हर जगह हर बैंक की शाखा ओपन करना संभव नहीं है।

इसी कारण सरकार ने ग्रामीणों की सुविधा के लिए AEPS पेमेंट सिस्टम की शुरुआत की। इसके माध्यम से केवल आधार कार्ड के जरिए वित्तीय लेनदेन और बैंकिंग सुविधाएँ का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके जरिये वित्तीय लेनदेन के लिए आपका बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण किया जाता है। इसके लिए फिंगर प्रिंट, और रेटिना को स्कैन किया जाता है ताकि वेरीफाई किया जा सके। 

निष्कर्ष –

तो आज के इस आर्टिकल AEPS Full Form in Hindi में आने जाना की AEPS क्या है और ये कैसे काम करता है। आज की तारीख में AEPS एक बहुत ही अच्छा बैंकिंग सुविधा है इसके माध्यम से देश के दूरदरज, दुर्गम इलाके बैंकिंग सुविधाएँ बहाल करने का प्रयास सरकार के द्वारा किया गया है ताकि दुर्गम इलाके के लोग भी वित्तीय लेनदेन और बैंकिंग सुविधाएँ का लाभ उठा सके। 

उम्मीद करते है आपको ये आर्टिकल अच्छा और ज्ञानवधक लगा होगा, इस आर्टिकल के माध्यम से आप AEPS पेमेंट सिम्टम के बारे में अच्छे से जान गए होंगे, इसे आप अपने दोस्तों के साथ साथ सोशल मीडिया साइट्स जैसे की Facebook, Twiter इत्यादि पर भी जरूर शेयर करें, किसी भी प्रकार का सवाल, सुझाव आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है, धन्यवाद!

FAQs –

Q. AEPS फंड ट्रांसफर लिमिट कितना है?

NPCL ने मैक्सिमम ट्रांसक्शन लिमिट की राशि निर्धारित कर दी है। आप एक AEPS वित्तीय लेनदेन में 10,000 रूपये तक की राशि का ट्रांसक्शन कर सकते है।

Q. AEPS Full Form in Hindi

AEPS का फुल फॉर्म “Aadhar Enable Payment System” होता है। इसका हिंदी में फुल फॉर्म “आधार सक्षम भुगतान प्रणाली” होता हैं। 

Q. क्या AEPS से पैसे का लेनदेन करना सुरक्षित है?

जी हाँ AEPS से पैसे लेनदेन करना एक सुरक्षित प्रक्रिया है। क्यूंकि इस प्रक्रिया से ट्रांसक्शन करने के लिए बैंक अकाउंट की जरुरत नहीं होती है सिर्फ आधार वेरीफाई करके पैसे का लेनदेन हो जाता है।

इन्हें भी पढ़े –

नमस्कार दोस्तों, मैं Rahul Niti एक Professional Blogger हूँ और इस ब्लॉग का Founder, Author हूँ. इस ब्लॉग पर मैं बहुत से विषयों पर लिखता हूँ और अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से उपयोगी और नईं-नईं जानकारी शेयर करता रहता हूँ।

Leave a Reply

error: Content is protected !!