गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? और ये 26 जनवरी को ही क्यों मनाते है

भारत में कुल तीन राष्ट्रीय पर्व है। स्वंतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और गाँधी जयंती. स्वंतंत्रता दिवस के दिन हर एक भारतीय, अंग्रेजों के चंगुल से भारत को आजाद कराने वाले सभी महान वीर सपूतों को नमन कर आजादी का जश्न मनाता है। और 26 जनवरी के दिन हमारा प्यारा देश भारत को संविधान सभा के द्वारा निर्मित एक संविधान मिली और सही मायनो में इस दिन भारत एक लोकतंत्र बना। 

दोस्तों हम सभी भारतवासियों के जीवन में 26 जनवरी का दिन बहुत ही महत्वपूर्ण है। भारत हर एक साल 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस मनाता है। इस दिन पुरे तरीके से सरकारी अवकाश रहता है। हम सभी तो प्रत्येक साल इस अवसर पर तिरंगा झंडा फहराते है। पर हम सभी में से कई लोगो को गणतंत्र दिवस के बारे में अधिक जानकारी नहीं होती है। और वो वास्तव में गणतंत्र का मतलब नहीं समझते है। 

बहुत से लोगो को ये नहीं पता होता है की गणतंत्र दिवस के दिन तिरंगा झंडा कौन फहराते है और ये कहाँ फहराया जाता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से आप गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के दिन ही क्यों मनाया जाता है ये सभी जानकारी जान पाएंगे। 

गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

गणतंत्र दिवस (Republic Day) भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है। जिसे हर एक साल 26 जनवरी को मनाया जाता है। इस यानि की 26 जनवरी 1950 ईस्वी को भारतीय सरकार अधिनियम 1935 को हटाकर भारत का संविधान लागु किया गया था। भारत में संविधान लागु होते ही भारत एक स्वंतंत्र गणराज्य बना और भारत में लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली पूरी तरह से स्थापित हुई। इसके साथ ही भारत में कानून का राज स्थापित हुआ और भारतीय नागरिको को मौलिक अधिकार प्राप्त हुए।

gantantra divas kyu manaya jata hai
gantantra divas kyu manaya jata hai

भारत का संविधान, संविधान सभा द्वारा तैयार किया गया था। भारत्तीय संविधान को बनाने में सबसे ज्यादा योगदान संविधान संभा के ड्राफ्टिंग समिति के अध्यझ डॉ भीम राव आंबेडकर का था। कुल 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन के कड़ी मेहनत के बाद संविधान निर्माण किया और 26 नवंबर 1949 ईस्वी को संविधान सभा के अध्यझ डॉ राजेंद्र प्रसाद को डॉ आंबेडकर ने भारतीय संविधान को सुपुर्द किया।

इसलिए प्रत्येक साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है। इसलिए इन्हें भारतीय संविधान निर्माता के रूप में जाना जाता है। गणतंत्र दिवस के दिन भारत के राष्ट्रपति तिरंगा झंडा फहराते है। और फिर सभी लोग खड़े होकर राष्ट्रगान गाते है ।इसके बादराष्ट्रपति को 21 तोपों की सलामी दी जाती है। ये समारोह भारत की राजधानी नई दिल्ली स्थित राजपथ/इंडिया गेट के पास आयोजित होता है। 

गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को ही क्यों मनाते है?

गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है ये जानने के लिए आपको इतिहास में जाना होगा। दरअसल बात दिसंबर 1929 ईस्वी की है जब लौहार में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अधिवेशन हुआ जिसकी अध्यक्षता पंडित जवाहरलाल नेहरू कर रहे थे। 

इस अधिवेशन में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के द्वारा सर्वसम्मति से ये प्रस्ताव पारित हुआ की अगर ब्रिटिश सरकार 26 जनवरी 1950 ईस्वी तक भारत को डोमिनियन नहीं दे देता है तो भारत खुद को 26 जनवरी 1930 ईस्वी स्वंतंत्रत घोषित कर देगा। इस घोषणा के बावजूद ब्रिटिश सरकार ने कोई फैसला नहीं लिया।

और उसी दिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने भारत की पूर्ण स्वंतंत्रता के निश्चय की घोषणा की और इस लक्ष्य का प्राप्ति के लिए आंदोलन और तेज कर दिए गए। और इसी दिन पंडित जवाहरलाल नेहरू ने लौहार के रावी नदी के तट पर तिरंगा झंडा फहराया था।

तब से लेकर वर्ष 1947 ईस्वी तक भारत प्रत्येक साल 26 जनवरी को स्वंतंत्रता दिवस मनाता रहा। और जब भारत 15 अगस्त 1947 ईस्वी को आजाद हुआ इसके उपरांत भारत का संविधान बनाने हेतु संविधान सभा का गठन किया गया। 

और इस प्रकार भारत का संविधान 26 नवंबर 1949 ईस्वी को बनकर तैयार हुआ और जब भारत का संविधान को लागु करने की बारी आई तो चुकी 26 जनवरी भारतीय इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन था तो 26 जनवरी के दिन तो महत्व देने के उद्देश्य से संविधान को 26 जनवरी 1950 ईस्वी को पूर्ण रूप से लागु कर दिया गया। 

गणतंत्र दिवस कब मनाया जाता है?

गणतंत्र दिवस प्रत्येक साल 26 जनवरी के दिन मनाया जाता है। हम सभी भारतवासी गणतंत्र दिवस को बहुत ही धूम धाम, हर्ष उल्लास के साथ मानते है। इस अवसर पर स्कूलों, कॉलेज इत्यादि में कई तरह सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होते है। और चुकी इस दिन भारत का संविधान देश में पूर्ण रूप से लागु हुआ था तो हम सभी भारत के संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा रखने और उसे हर हाल में अनुसरण करने की शपथ लेते है। 

गणतंत्र दिवस का क्या महत्व है?

भारत में गणतंत्र दिवस का बहुत ही अधिक महत्व है। हम सभी भारतीय इस दिन को बहुत ही हर्ष उल्लास के साथ मानते है  इस शुभ अवसर पर स्कूलों, कॉलेज, या सरकारी, गैर सरकारी कार्यालयों में तिरंगा झंडा फहराया जाता है और सभी लोग सामूहिक रूप में खड़े होकर राष्ट्रगान को गाते है। 

 चुकीं इसी दिन भारत का संविधान सम्पूर्ण रूप से लागु हुआ था और इसके लागु होते है भारत एक पूर्ण रूप से लोकतान्त्रिक गणराज्य बना था। और भारत में कानूनी व्यवस्था पूर्ण रूप से लागु हुई थी। और सभी भारतियों को मौलिक अधिकार प्राप्त हुए थे और कई तरह के हक़ अधिकार सुनिश्चित किये गए थे जो की न्याय, समानता पर आधारित थी। 

इस अवसर पर स्कूली बच्चे भाषण देते है और कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते है। इसके साथ साथ स्कूलों कई तरह की वाद-विवाद , निबंध प्रतियोगिताएं भी आयोजित किये जाते है। और चुकीं इस दिन संविधान भारत में लागु हुआ था तो शिक्षक गण छात्रों को संविधान का महत्व भी बताते है और हर एक परस्तिथि में संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा रखने और उसे हर हाल में पालन करने की शपथ दिलवाते है। 

FAQs –

Q. 26 जनवरी को झंडा कौन फहराता है?

26 जनवरी के दिन भारत के राष्ट्रपति तिरंगा झंडा फहराते है। 26 जनवरी को झंडातोलन भारत की राजधानी नई दिल्ली स्थित राजपथ, इंडिया गेट पर किया जाता है।

Q. 26 जनवरी 2022 कौन सा गणतंत्र दिवस है?

इस वर्ष यानी की 26 जनवरी 2022 को भारत 73वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है।

Q. पहली बार गणतंत्र दिवस कब मनाया गया?

भारत 26 जनवरी 1950 ईस्वी को गणतंत्र हुआ था। पहली बार भारत ने 26 जनवरी 1950 ईस्वी को गणतंत्र दिवस मनाया था और इसी दिन डॉ राजेंद्र प्रसाद ने स्वंतंत्र भारत के पहले राष्ट्रपति की शपथ लिए थे। इस दिन भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने ध्वजारोहण किया था और इन्हे 21 तोपों की सलामी गई थी।

Q. पहली बार 26 जनवरी 1950 को गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि कौन थे?

26 जनवरी 1950 ईस्वी को भारत ने अपना पहला गणतंत्र दिवस मनाया था इस अवसर पर इंडोनेशिया के तत्कालीन राष्ट्रपति सुकर्णो मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे।

Q. गणतंत्र दिवस 2022 के मुख्य अतिथि कौन है?

गणतंत्र दिवस 2022 के मुख्य अतिथि के रूप में कुल पांच मध्य एशियाई देश कजाखस्तान, ताजीकिस्तान, उज्बेज्किस्तान, तुर्कमेनिस्तान और किर्गिस्तान के राष्ट्रपति होंगे।

इन्हें भी पढ़े –

आशा करता हूँ आपको ये आर्टिकल गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? और ये 26 जनवरी को ही क्यों मनाते है अच्छा लगा होगा, अब आप अच्छे तरीके से गणतंत्र दिवस के बारे में जान गए होंगे अगर ये लेख अच्छा लगा हो तो इसे आप अपने दोस्तों, सहपाठियों, रिश्तेदारों को भी जरूर शेयर करें, किसी भी प्रकार का सवाल, सुझाव आप कंमेंट के माध्यम से पूछ सकते है, धन्यवाद!

Leave a Reply

error: Content is protected !!