महेंद्र सिंह धोनी जीवनी | M.S Dhoni Biography in Hindi

महेंद्र सिंह धोनी (M S Dhoni) एक ऐसा नाम जिसने क्रिकेट को पूरी की पूरी तरह बदल कर रख दिया। इनका नाम भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के सबसे सफल कप्तानो में लिया जाता है । महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान थे। 

दोस्तों इनका संघर्ष वाकई में हम सबों के लिए एक प्रेरणा है, इन्होने बहुत संघर्ष किया है एक आम इंसान से महान क्रिकेटर बनने के लिए, ऐसे तो इन्होने क्रिकेट खेलना अपने स्कूल के दिनों से ही शुरू कर दिए थे पर भारतीय क्रिकेट टीम में इनका चयन होने में कई साल लग गए  पर टीम के साथ जुड़ते ही बहुत जल्द ही इन्होने एक अच्छे क्रिकेटर के तौर पे खुद को स्थापित कर लिया।

15 August 2020 को महेंद्र सिंह धोनी ने अन्तराष्टीय क्रिकेट से सन्यास की घोषणा कर दी, और इसके साथ ही क्रिकेट का एक युग समाप्त हो गया। विश्व क्रिकेट के चाहने वालो के लिए ये एक दिल तोड़ने वाला पल था। 

M S Dhoni Biography in Hindi

 

महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय (M.S Dhoni Biography in Hindi)

पूरा नाम (Name)महेंद्र सिंह धोनी
उपनाम (Nick Name)माहि,एमएस,एमएसडी,
कैप्टन कूल, Thala
जन्म (Born)7 जुलाई 1981
जन्मस्थान (Birthplace)रांची, झारखण्ड, भारत
उम्र (Age)40
पेशा (Profession)क्रिकेटर और पूर्व कप्तान
राष्ट्रियता (Nationality)भारतीय
गृहनगर (Hometown) रांची, झारखण्ड, भारत
धर्म (Religion)हिन्दू
जाती (Caste)राजपूत
शिक्षा (Education)12वी कक्षा पास
लम्बाई (Height)5 फीट 9 इंच
वजन (Weight)70 kg
आँखों का रंगगहरा भूरा
बालों का रंगकाला, सफेद
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)विवाहित
राशि (Zodiac Sign)कर्क
कोच का नामकेशव बनर्जी और चंचल भट्टाचार्य
कुल संपत्ति (Net Worth)700 करोड़
बल्लेबाजी शैली (Batting Style)दाहिने हाथ के बल्लेबाज
बॉलिंग शैली (Bowing Style)दाहिने हाथ के मध्यम गेंदबाज
भूमिका (Role)विकेट-कीपर, बल्लेबाज
आईपीएल टीम (IPL Team)चेन्नई सुपर किंग, राइजिंग पुणे
सुपरजिआंट्स
पसंदीदा शार्टहेलीकाप्टर शार्ट

महेंद्र सिंह धोनी का शुरुआती जीवन (M S Dhoni Birth And Education )

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म 7 july 1981 को रांची, झारखण्ड में हुआ था। वे मूल रूप से उत्तराखंड के राजपूत परिवार से आते है। इनके पिता श्री पान सिंह एक MECON (केंद्र सरकार के स्वामित्व वाली एक सार्वजानिक क्षेत्र) कंपनी के जूनियर मैनेजमेंट कर्मचारी के तौर पर काम करते थे। इनकी माता श्रीमति देवकी देवी एक कुशल  गृहिणी है। 

महेंद्र सिंह धोनी दो भाई एवं एक बहन है, बड़े भाई का नाम नरेंद्र सिंह धोनी है। जो की एक राजनेता है एवं एक बड़ी बहन जिनका नाम जयंती गुप्ता है जो की एक अंग्रेजी की शिक्षिका है.  

महेंद्र सिंह धोनी का शुरूआती पढाई रांची में श्यामली में स्तिथ डीएवी जवाहर विधालय मंदिर से हुई। धोनी का मन खेल कूद में ज्यादा लगता था।  धोनी को फुटबॉल एवं बैडमिंटन में इन दोनी खेलो कुछ विशेष रूचि थी जब वे 12वी कक्षा में थे तब उन्होंने इंटर-स्कूल प्रतियोगिता में अपने स्कूल के तरफ से इन दोनों खेलो में प्रतिनिधित्व भी किया था। फूटबाल एवं बैडमिंटन में अच्छे प्रदर्शन के कारण इनका चयन जिला एवं क्लब लेवल में हो गया था धोनी अपने फुटबॉल टीम के गोल कीपर भी रह चुके है. 

धोनी को उनके फुटबॉल कोंच ने लोकल क्रिकेट क्लब में उन्हें क्रिकेट खेलने के लिए भेज दिया | जहाँ पर वे विकेट कीपिंग से उन्होंने सभी को प्रभावित किया एवं कुछ ही दिनों बाद उनको कमांडो क्रिकेट क्लब में (1995-1998) तक विकेट-कीपर चुन लिया गया।

क्रिकेट क्लब में लगातार अच्छे प्रदर्शन के कारण उनका चयन वीनू मकांड ट्रॉफी अंडर-16 चैम्पियनशिप (1997-1998 ) में हो गया। जहाँ धोनी ने अच्छा प्रदर्शन किया। धोनी ने 10वी कक्षा के बाद ही क्रिकेट को गंभीरता से लेना शुरू कर दिया। बाद में वे भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के एक अच्छे क्रिकेटर बनकर उभरे। 

महेंद्र सिंह धोनी का परिवार (M S Dhoni Family)

पिता का नाम पान सिंह 
माता का नाम देवकी देवी 
पत्नी का नाम साक्षी धोनी 
भाई का नाम नरेंद्र सिंह धोनी (बड़े भाई)
बहन का नाम जयंती गुप्ता
बच्चे एक, बेटी (जीवा)

महेंद्र सिंह धोनी का शुरूआती करियर (M S Dhoni Domestic Career)

महेंद्र सिंह धोनी रणजी करियर (M S Dhoni Ranji Career) –

महेंद्र सिंह धोनी को रणजी खेलने का अवसर 1999-2000  सीजन  मिला, और पहला मैच असम क्रिकेट टीम के खिलाफ खेलना का मौका मिला ,धोनी ने इस मैच के दूसरी पारी में नाबाद 68 रन बनाये थे. 

उन्हें रणजी  का अगला मैच खेलने का मौका अगले सीजन में बंगाल क्रिकेट टीम के साथ मिला जिसमे उन्होंने शतक लगाया था ,फिर भी उनकी टीम हर गयी थी। धोनी ने इस रणजी ट्रॉफी के इस सीजन में कुल 5 मैचों में 283 रन बनाये थे। इस ट्रॉफी के बाद धोनी अन्य कई घरेलु टूर्नामेंट भी खेले थे। 

इनके लगातार अच्छे प्रदर्शन के बावजूद इनका चयन ईस्ट जोन सिलेक्टर के तरफ से नहीं किया गया ,जिससे इन्होने क्रिकेट से थोड़ी दुरी बना ली ,और खेल कोटा के माध्यम से मिले TTE जॉब ऑफर को स्वीकार कर लिया और इनकी पोस्टिंग खड़कपुर रेलवे स्टेशन पर हुई और  वो वहां जॉब करने लगे. 

धोनी ने TTE का जॉब 2001-2003 तक किया ,इनका मन जॉब में नहीं लगता था ,ये थे तो दिल से क्रिकेटर तो एक दिन इनका मूड ख़राब हुआ और इन्होने जॉब छोड़ दी और वापस आ गए रांची अपने घर। दरअसल धोनी के पिताजी चाहते थे की धोनी जॉब के साथ साथ क्रिकेट खेले.

दुलीप ट्रॉफी में धोनी का चयन होने भी नहीं खेल सके – 

दरअसल साल 2001 में धोनी का चयन दुलीप ट्रॉफी  में हुआ गया था और ये मैच अगरतला में खेला जाना था पर  किसी वजह से सही समय पर बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के द्वारा जानकारी नहीं देने के कारण इनको समय पे पता नहीं चल सका , अगरतला सही समय पर पहुंचने के लिए। इनके दोस्तों ने जैसे तैसे कर एक गाड़ी का इंतेज़ाम किया लेकिन बिच रस्ते में गाड़ी ख़राब हो जाने के कारण धोनी कोलकाता एयरपोर्ट देर से पहुंचे ,जिसके वजह इनकी फ्लाइट मिस हो गयी और ये नहीं जा पाए.  

महेंद्र सिंह धोनी देवधर  ट्रॉफी ( M S Dhoni Deodhar Trophy Career)-

2002 -03 धोनी का रणजी ट्रॉफी और देवधर ट्रॉफी में लगातार बेहतरीन प्रदर्शन के कारण इनकी लोकप्रियता बढ़ती चली गयी ,और साल 2003 में प्रतिभा संसाधन विकाश विंग मैच जमशेदपुर में खेला गया ,इसी मैच में पूर्व कप्तान प्रकाश पोद्दार ने धोनी खेलते हुए देखा और वो धोनी के कायल हो गए ,इसके बाद उन्होंने धोनी के खेल की जानकारी BCCI को दी और इस तरह महेंद्र सिंह धोनी का चयन बिहार  अंडर-19 में हो गया था.

2003-2004 सीजन, देवधर ट्रॉफी में धोनी ने पूर्वी जोन की तरफ से खेलते हुए अच्छा प्रदर्शन किया और ये ट्रॉफी अपने नाम की ,इस टूर्नामेंट में धोनी ने कुल 4 मैच में एक शतक की मदद से 244 रन बनाये.

इसके कुछ समय बाद धोनी का चयन केन्या और जिम्बाबे दौरे के लिए इंडिया-A में हो गया, इंडिया-A  की तरफ से इन्होने अपना पहला मैच जिम्बाबे के साथ खेलते हुए धोनी ने बतौर विकेट कीपर अच्छा प्रदर्शन किया, और उसके बाद पाकिस्तान के खिलाफ मैच में धोनी ने अर्धशतक बनाया, लगातार बढ़िया खेलने के कारण उस समय इन्होने  खूब शुर्खिया बटोरी तत्पश्चात उस समय के कप्तान सौरव गांगुली ने इनको नोटिस किया. 

महेंद्र सिंह धोनी का वनडे करियर ( M S Dhoni One Day Match Career)

  • महेंद्र सिंह धोनी को अपना पहला अन्तराष्टीय मैच खेलना का मौका वर्ष 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ मिला.
  • धोनी का पहला मैच कुछ खाश नहीं रही और वे शुन्य पैर आउट हो गए हलाकि इनके ख़राब प्रदर्शन के बावजूद इनका चयन पाकिस्तान के साथ होने वाली सीरीज में कर ली गयी.
  • पाकिस्तान के साथ खेले गए एक मैच में धोनी ने ताबडतोड़ 148 रन ठोक दिए ,और ये भारत के पहले ऐसे विकेट-कीपर बल्लेबाज हो गए जिन्होंने सर्वाधिक रन बनाये.   
  • इसके बाद धोनी ने कभी पीछे मुड़ के नहीं देखा अगले सीरीज में श्रीलंका के विरुद्ध खेलते धोनी ने एक मैच में ताबड़तोड़ 183 रन ठोक डाले और उन्होंने इस सीरीज के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए ,और इनको मैन ऑफ़ द मैच भी दिया गया. 
  • सितम्बर 2007 में धोनी को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वन डे सीरीज में भारतीय टीम को नेतृत्व करने के लिए कप्तानी सौपी गयी. 
  • 2009 में धोनी कई महीनो के लिये आईसीसी वोडीआई बल्लेबाजी रैंकिंग में टॉप भी रहे. 
  • और 2011 विश्वकप फाइनल मुकाबला भला कौन क्रिकेट प्रेमी भूलेगा, जब श्रीलंका ने भारत को शुरूआती झटका दे दिया तब धोनी ने खुद को बैटिंग आर्डर में प्रमोट कर खुद आगे आये और ताबड़तोड़ 91 रन की पारी खेलते हुए भारत को 28 वर्षों के बाद विश्वकप जितने में अहम् किरदार निभाया.    

वन डे मैच में धोनी का प्रदर्शन (ODI Match Batiing Career) –

धोनी द्वारा खेले गए कुल वन डे मैच350
कुल खेली गयी इनिंग297
वन डे मैच में बनाये गए कुल रन10773
वन डे मैच में लगाए गए कुल चौके826
वन डे मैच में लगाए गए छक्के229
वन डे मैच में बनाये गए कुल शतक10
वन डे मैच में बनाये गए कुल दोहरे शतक 0
वन डे मैच में बनाये गए कुल अर्धशतक73
वन डे मैच में टॉप स्कोर183

महेंद्र सिंह धोनी का टेस्ट मैच करियर (M S Dhoni Test Match Career)

  •  धोनी को भारतीय टीम के तरफ से पहला टेस्ट मैच खेलने का साल 2005 में  श्रीलंका टीम के खिलाफ मिला था उन्होंने इस टेस्ट मैच में कुल 30 रनो का योगदान दिया था , हालाँकि ये टेस्ट मैच बारिश होने के करण रेड हो गया था.  
  • धोनी ने साल 2006 में टेस्ट मैच में अपना पहला शतक पाकिस्तान के खिलाफ बनाये थे ,धोनी के इस योगदन के कारन भारत फ्लो-ऑन बचने में कामयाब रहा | 
  • साल 2008 में धोनी को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गयी सीरीज में उपकप्तान बनाया गया,इस सीरीज में कप्तान अनिल कुंबले बुरी तरह घायल हो गए थे और उन्होंने रिटायरमेंट की घोषणा कर थी जिसके चलते धोनी को कप्तानी की जिम्मेवारी सौपी गयी.
  •  साल 2009 में श्रीलंका के खिलाफ सीरीज धोनी ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए 2 शतक लगाए थे, उनकी इस पारी के कारण भारतीय टीम को थी ,उसी साल दिसंबर में भारतीय टीम आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन टीम बन गयी.
  • धोनी ने अपना आखिरी टेस्ट मैच साल 2014 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था और अपने आखिरी टेस्ट मैच में 35 रन बनाये थे,इसी मैच के समाप्त होने के बाद धोनी ने टेस्ट मैच से सन्यास की घोषणा कर दिए.

 टेस्ट मैच में धोनी का प्रदर्शन (Test Match Batiing Career) –

धोनी द्वारा खेले गए कुल टेस्ट मैच90
कुल खेली गयी इनिंग144
टेस्ट मैच में बनाये गए कुल रन4876
टेस्ट मैच में लगाए गए कुल चौके544
टेस्ट मैच में लगाए गए कुल छक्के 78
टेस्ट मैच में बनाये गए कुल शतक 6
टेस्ट मैच में बनाये गए कुल दोहरे शतक 1
टेस्ट मैच में बनाये गए कुल अर्धशतक 33

महेंद्र सिंह धोनी का T-20 करियर (M S Dhoni T 20 Match Career)

महेंद्र सिंह धोनी ने अपना पहला टी-20 क्रिकेट मैच  दक्षिण अफ्रीका टीम के खिलाफ  खेला था , हालाँकि धोनी अपने इस पहले मैच में कुछ खास कर नहीं पाए और महज 2  गेंद खेलकर ही शुन्य पे आउट हो गए थे ,हालाँकि भारतीय टीम ने इस मैच में जीत  हासिल की थी. 

धोनी का T 20  में प्रदर्शन (T 20 Match Batting Career)-

धोनी द्वारा खेले गए कुल T 20 मैच98
T 20 बनाये गए कुल रन1617
T 20 में लगाए गए कुल चौके116
T 20 में लगाए गए कुल छक्के53
T 20 में बनाये गए कुल शतक0
T 20 में बनाये गए कुल अर्धशतक2

महेंद्र सिंह धोनी का IPL करियर ( M S Dhoni IPL Career)

  • महेंद्र सिंह धोनी को IPL के पहले सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स ने 10 करोड़ रुपये में ख़रीदा था और इस सीजन में धोनी सबसे महंगे खिलाडी थे, इनकी कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स तीन बार IPL का ख़िताब अपने नाम कर चुकी है इसके अलावा धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम साल 2010 के T 20 चैंपियनशिप लीग भी  है। 
  • साल 2015 में चेन्नई सुपर किंग्स पर 2 साल का बैन लग गया था ,जिसके बाद धोनी को राइजिंग पुणे सुपरजॉएंट ने 12 करोड़ रुपये ख़रीदा था |
  • साल 2018 में चेन्नई सुपर किंग्स पर लगा बैन हट गया ,और धोनी फिर से चेन्नई सुपर किंग्स के साथ बतौर कप्तान जुड़ गए ,और एक बार फिर चेन्नई सुपर किंग्स धोनी की  कप्तानी में विजय बनी. 

महेंद्र सिंह धोनी के रिकार्ड (M S Dhoni Records)

  • धोनी दुनिया के एकमात्र ऐसे कप्तान है जिनकी कप्तानी में भारतीय टीम तीन ICC टूर्नामेंट जित चुकी है जो निचे लिखे इस प्रकार है.
ICC टूर्नामेंटकिस वर्ष कप जीता
T-20 वर्ल्ड कप2007
ODI वर्ल्ड कप2011
चैंपियंस ट्रॉफी2013
  • धोनी का बतौर विकेट कीपर बल्लेबाज एकदवसिय मैचों में सर्वाधिक 183 रन, और ये रिकॉर्ड धोनी ने एडम गिलक्रिस्ट के 172 रनो के रिकॉर्ड को धवस्त करके बनाया था. 
  •  धोनी पहले ऐसे विकेट कीपर है जिन्होंने टेस्ट मैच में 4000 रनो का आंकड़ा पर किया.
  • धोनी के कप्तानी में रहते हुए भारतीय टीम कुल 27 टेस्ट मैच जीती हुयी है.
  • ODI मैच में 10,000 रन 50 से ऊपर के औसत से बनाने वाले धोनी पहले खिलाडी है. 
  • धोनी भारत के पहले और दुनिया के चौथे खिलाडी है जिन्होंने ODI मैचों में 300 से अधिक कैच लिए है.
  • बतौर विकेट-कीपर ODI मैचों में सबसे ज्यादा (120 ) स्टम्पिंगस करने का रिकॉर्ड भी धोनी के नाम है.
  •  कप्तान के रूप में सबसे ज्यादा T 20 मैच जितने का रिकॉर्ड ,साथ ही साथ T 20 में बतौर कप्तान सबसे ज्यादा मैच खेलने का रिकॉर्ड भी धोनी के नाम है.
  •  बतौर कप्तान सबसे ज्यादा (332 ) अन्तराष्टीय मैच खेलने का रिकॉर्ड भी महेंद्र सिंह धोनी के नाम पे दर्ज है.

महेंद्र सिंह धोनी को मिले सम्मान (M S Dhoni Awards)

  • साल 2007 में महेंद्र सिंह धोनी को खेल के क्षेत्र में दिया जाने वाला शीर्ष अवार्ड राजीव गांधी खेल रत्न अवार्ड से नवाजा गया.
  • महेंद्र सिंह धोनी को साल 2009 में भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पदम् श्री और साल 2018 में भारत का तीसरा सर्वोचय नागरिक सम्मान पदम् भूषण भारत की सरकार के द्वारा दिया गया. 
  • धोनी को साल 2011 में डी मोंटफोर्ट यूनिवर्सिटी के तरफ से मानद डॉक्टरेट की उपाधि दी गयी थी.
  • और साल 2011 में ही धोनी को इंडियन आर्मी की तरफ से सम्मान पद मिला है.

महेंद्र सिंह धोनी की बायोपिक (M S Dhoni Movie)

सा  2016 में  बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक नीरज पांडेय ने धोनी के जीवन पर फिल्म बनायीं जिसका नाम था  M.S Dhoni :The Untold Story है इस फिल्म में धोनी के जीवन संघर्ष को विस्तार से दिखाया गया है। इस फिल्म में धोनी का किरदार सुशांत सिंह राजपूत ने निभाया था .

धोनी की लव लाइफ (M S Dhoni Love Life)

धोनी और प्रियंका झा की लव स्टोरी ( Dhoni And Priyanka Jha Love Story)

महेंद्र  सिंह धोनी की एक गर्लफ्रेंड हुआ करती थी  जिसका नाम था प्रियंका झा था जिनसे धोनी का रिश्ता बहुत अच्छा था पर साल 2002 में एक कार दुर्घटना में इनकी मौत हो गयी ,जिसके कारण धोनी की ये लव स्टोरी अधूरी रह गई थी ,धोनी की जिंदगी के इस हिस्से के बारे में जानकरी  शायद हम सबको धोनी की आयी फिल्म से पता चली. 

धोनी और साक्षी की लव लाइफ (Dhoni And Sakshi Love Story )

साल 2007  में धोनी कोलकाता के एक होटल में अपने साथी खिलाडियों के रुके हुए थे, वही  वो साक्षी से मिले ,दरअसल  साक्षी उस होटल में होटल मैनेजमेंट में बतौर  इंटर्न कार्य कर रही थी धोनी और साक्षी ने एक दूसरे के साथ करीब 3  साल तक डेटिंग की ,और फिर  इनदोनो ने शादी करने का फैसला कर लिया , साल 2010 में दोनों ने शादी कर ली ,उन दोनों की एक बेटी भी  है ,जिसका नाम इन्होने जीवा रखा। 

FAQ –

Q. महेंद्र सिंह धोनी का जन्म कब और कहां हुआ था?

Ans: महेंद्र सिंह धोनी का जन्म 7 जुलाई 1981 ईस्वी को रांची, झारखण्ड में हुआ था।

Q. महेंद्र सिंह धोनी के पिता का नाम क्या है?

Ans: पान सिंह

Q. धोनी के माता का क्या नाम है?

Ans: देवकी देवी

Q. महेंद्र सिंह धोनी के कितने भाई हैं?

Ans: धोनी के एक बड़े भाई है जिसका नाम नरेंद्र सिंह धोनी है।

Q. महेंद्र सिंह धोनी को अर्जुन पुरस्कार कब मिला?

Ans: धोनी को अर्जुन पुरुस्कार नहीं मिला है

Q. महेंद्र सिंह धोनी का निक नेम क्या है

Ans: माहि,एमएस,एमएसडी, कैप्टन कूल, Thala

Q. महेंद्र सिंह धोनी कौन सी जाति से?

Ans: राजपूत

Q. महेंद्र सिंह धोनी की आयु कितनी है?

Ans: 40 साल

इन्हे भी पढ़े :-

हेलो दोस्तों ,मैं आशा करता हूँ की ये आर्टिकल M.S Dhoni Biography in Hindi आपको Inspiring लगा होगा ,अगर अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें, किसी भी प्रकार का सवाल, सुझाव आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है, धन्यवाद !

नमस्कार दोस्तों, मैं Rahul Niti एक Professional Blogger हूँ और इस ब्लॉग का Founder, Author हूँ. इस ब्लॉग पर मैं बहुत से विषयों पर लिखता हूँ और अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से उपयोगी और नईं-नईं जानकारी शेयर करता रहता हूँ।

Leave a Comment