TRP क्या है ? TRP Full Form in Hindi

दोस्तों अगर आप टेलीविज़न देखते है तो आपने एक शब्द जरूर सुना होगा TRP, बहुत सारे TV प्रोग्राम में या टीवी सीरियल में  ये बार-बार बताया जाता है की इस सीरियल की TRP बहुत ज्यादा है या इस चैनल की TRP कम है बहुत से लोग ये चर्चा कहते रहते है की BIG BOSS  की TRP ज्यादा है या दूसरे किसी सीरियल्स की कम है। पर उन्हें वास्तविक में कुछ समझ में नहीं आता है। 

तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम बहुत ही आसान भाषा में समझेंगे में की TRP क्या हैं ? टीआरपी का मतलब क्या होता है, TRP Full Form in Hindi और ये कैसे पता लगाया जा सकता है। की किस चैनल की कितनी TRP है, और इसका क्या लेना देना है किसी भी चैनल से,TV  प्रोग्राम्स से। 

TRP क्या हैं (TRP Meaning in Hindi) 

TRP ये कोई भी चैनल या TV  प्रोग्राम कितना popular है ये मापने का सबसे महत्वपूर्ण tool है। Television की दुनिया में TRP एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रखता है. जितने ज्यादा लोग किसी भी चैनल या किसी प्रोग्राम को देखेंगे तो उसकी TRP भी उतनी ही ज्यादा होगी। 

trp full form in hindi
trp full form in hindi

दोस्तों आपके हमारे घर में बच्चे से लेकर बूढ़े तक के हर उम्र के लोगो का अपना अपना पसंद का चैनल या यू कहे कोई न कोई टीवी सीरियल्स जरूर होता है ऐसे में लोग अपने पसंद के प्रोग्राम्स को देखते रहते है. TRP के माध्यम से हम ये पता कर सकते है की कोई भी चैनल को कितने लोग एक दिन में देख रहे है किस किस उम्र के लोग देख रहे है किस समय पे देख रहे है और किस स्थान पे देख रहे है। 

TRP से  Advertisers कंपनियों ,Investers ये पता कर पाते है की लोग किसी खाश समय में कौन सा TV चैनल या सीरियल्स देख रहे होते है जिससे इन Advertisers कंपनियों और Investers ये तय करते है की उस खाश समय पे कौन सा विज्ञापन चलना है जिससे उनका अच्छा खाशा प्रचार हो सके और उनके उत्पाद बाजारों में बिक सके। 

TRP Full Form in Hindi

TRP का Full Form Television Rating Point होता है।

TRP कैसे चेक करते है (How To Check TRP)

TRP को  पता करने के लिए एक संस्था है  BARC (Broadcast Audience Research Council) है। जो लोगो के  घरो में People’s Meter लगा देती है।  दोस्तों फ़िलहाल भारत के 44000 घरो में People’s Meter लगा हुआ है। इनमे से ज्यादातर शहरी क्षेत्रों में लगा हुआ है और कुछ गाँवो में भी लगा हुआ है जिससे इन क्षेत्रो के लोगो की mentality को पता किया जा सके की लोग क्या देख रहे है।

 People’s Meterको हर उम्र के लोगो के घरो में लगा दिया जाता है कुछ  ऐसे घरो में लगा दिया जाता है जहाँ बच्चे ज्यादा है। कुछ ऐसे घरो में लगा दिया  है जहाँ महिलाएं ज्यादा है और कुछ ऐसे जगहों पे लगाया जाता है जहाँ पे पुरुष ज्यादा है अलग अलग भाषा क्षेत्रो में भी लगाया जाता  है ताकि ये पता किया जा सके की लोग आखिर देख क्या रहे है और कब-कब देख रहे  है. 

और ये सारी सूचनाएं ये People’s Meter एक एक पल की अपडेट अपनी Monitoring Team (Indian Television Audience Measurement ) को भेज देती है जिसके माध्यम से Monitoring Team ये सभी डाटा को एनालिसिस करने के बाद Weekly, और monthly  top 10  Rating  वाले Channel  और अलग अलग Category  में  TV  Shows, Serial  की लिस्ट जारी करती है और बताती है  किसी Particular चैनल की  या TV  shows की TRP कितनी है। 

नोट – TV Channels की TRP Check करने के लिए यहाँ क्लिक करे :-BarcIndia

TRP कम या ज्यादा होने से क्या होता है?

किसी भी चैनल का TRP कम या ज्यादा होने से Audience को कुछ फर्क नहीं पड़ता है लेकिन हाँ TRP कम या ज्यादा होने से इसका सीधा सीधा असर चैनल  की कमाई पर पड़ती है। क्यूंकि TRP का सीधा सम्बन्ध Channel या TV  Shows की लोकप्रियता से होता है। तो जाहिर है इसका असर कमाई पर भी पड़ेगा। 

उदहारण ते तौर पर कोई भी advertisers ऐसे से channel पे अपना Product का विज्ञापन क्यों करवाएगा जिसकी viewership ही कम है,उसे संख्या में कम लोग देख रहे है अथार्त TRP कम  है और अगर विज्ञापन करवाएगा भी तो वो कम पैसे देगा।

तो जितने भी तमाम TV Channel है जैसे की Sony, Colours, Star Plus, Aaj Tak, NDTV इत्यादि Channels  को इस बात Tension हमेशा बानी रहती  है की कहीं  उनके Channel का TRP कम न हो जाए क्यूंकि इन सारे Channel की Income का ज्यादा Source  Advertising ही  होता है। 

अगर किसी भी Channel या कोई TV  Shows की TRP कम आ रही हो किसी सप्ताह  तो उस Week में उस Particular Channel को बहुत कम विज्ञापन मिलेगा और अगर विज्ञापन मिलेगा भी तो हो सकता है  कोई बड़ा Brand का ना मिले, जिससे इन सभी Channel को कभी कभी भारी नुकसान भी झेलना पड़ता है.

TRP से TV चैनल की कमाई कैसे होती है?

ऐसे तो TV चैनल की कमाई का जरिया  Sponsership, subscription इत्यादि से थोड़ी बहुत हो जाती है ,लेकिन TV चैनल की 80 % कमाई विज्ञापन से होती है। आपलोगो ने टीवी  देखते समय गौर किया ही होगा प्रत्येक कुछ समय अंतराल के बाद  2-3 मिनट की विज्ञापन आ ही  जाती है।  और ये टीवी चैनल्स इन विज्ञापनों को अपने चैनल पर Feature करने के लिए अच्छी-खाशी पैसे चार्ज करते है.

और इन विज्ञापनो का Rate तय किया जाता है TRP के जरिये , जिस चैनल का TRP जितना ज्यादा होगा  वो चैनल विज्ञापन Feature करने का पैसा  भी उतनी ही ज्यादा लेगी. कभी कभी ये चैनल्स वाले विज्ञापन चलवाने के लिए लाखों रुपये चार्ज करते है। 

उदाहरण के तौर पर Cricket World Cup के भारत -पाकिस्तान के मैच में विज्ञापन Feature करने के एक-एक सेकंड का लाखो रूपये चार्ज करते है ये चैनल वाले। क्यूंकि भारत -पाकिस्तान के मैच को एक साथ लाखो लोग देख रहे होते है  और ऐसे में  अगर इन मैचों के दौरान  विज्ञापन चलती है। तो  इन विज्ञापन चलवाने वाले कंपनियों का अच्छा खासा प्रचार हो जाता है। जिससे उनकी Brand Value बन जाती है और उनके Product बाजारों में आसनी से बिकने लगती है। 

FAQs –

टीआरपी से क्या फायदा होता है?

सीधे-सीधे शब्दों में कहाँ जाय तो TRP से पब्लिक को कुछ फायदा नहीं होता है। टीआरपी से खासकर विज्ञापन कंपनियां को फायदा मिलता है उन्हें ये जानने में सहूलियत मिलती है की किस-किस टीवी चैनल के किस किस प्रोग्राम को देश में सबसे ज्यादा देखा जा रह है। इस रेटिंग के अनुसार विज्ञापन कंपनियां विज्ञापन के लिए टीवी चैनलों से करार करते है।

TRP कैसे बनती है?

किसी भी टीवी चैनल को या उसके प्रोग्राम्स, सेरिअल्स को सबसे अधिक देखा जा रहा है, किस किस लोकेशन में देखा जा रहा, कितनी देर तक देखा जा रहा है ये सभी चीजे TRP रेटिंग से पता लगाई जाती है।

इन्हे भी पढ़े –

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने बात की TRP क्या हैं (TRP Full Form in Hindi) तो अब आप समझ ही गए होंगे की TRP कितनी महत्वपूर्ण होती है किसी भी TV चैनल  के लिए, इसे आप अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें अगर आपके पास किसी भी प्रकार का कोई सुझाव या सवाल हो तो  Plz  हमें Comment जरूर करे धन्यवाद !

2 thoughts on “TRP क्या है ? TRP Full Form in Hindi”

Leave a Reply

error: Content is protected !!