UPSC क्या है? UPSC Full Form in Hindi

आज की तारीख में हर युवा सरकारी नौकरी की तैयारी के लिए दिन-रात कड़ी मेहनत करता है. ताकि उसे सरकारी नौकरी मिल सके। सरकारी नौकरी का हमारे समाज में एक विशेष प्रकार का महत्व है और लोगों का ऐसा मानना है कि जिसके पास सरकारी नौकरी है ऐसे लोग का जीवन काफी आराम से व्यतीत होता है। 

ऐसे में आप लोगों के मन में भी सरकारी नौकरी करने की चाह है और आप उसकी तैयारी भी कर रहे हैं ऐसे में आप लोगों को मालूम ही होगा कि सरकारी नौकरी के जो एग्जाम है उसे आयोजित करने के लिए सरकार ने भिन्न प्रकार के संस्थाओं का निर्माण किया है। 

उनमें से UPSC भी एक प्रकार की संस्था है। जो विभिन्न प्रकार के एग्जाम भारत में आयोजित करती है। ऐसे में आप लोगों के मन में सवाल जरूर आएगा कि आखिर में UPSC क्या है? इसका फुल फॉर्म क्या होता है (UPSC Full Form in Hindi) इसकी स्थापना कब हुई थी और ये भारत में कौन कौन से एग्जाम आयोजित करवाता है? ऐसे ही सवालों के जवाब आप जानना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े। 

UPSC क्या है? (Upsc Kya Hai)

upsc full form in hindi
upsc full form in hindi

UPSC (Union Public Service Commission) भारत का एक प्रमुख केंद्रीय रिक्रूटमेंट एजेंसी है। जो मुख्य तौर भारत सरकार के अन्तर्गत आने वाले Group ‘A’ ऑफिसर्स को एग्जाम के माध्यम से चयन कर नियुक्ति करती है। इसके अलावा ये भारत में कई अन्य महत्वपूर्ण ग्रुप बी लेवल के अधिकारीयों की नियुक्ति के लिए प्रतियोगी परीक्षाएं आयोजित करवाने और इसक बाद नियुक्ति के लिए अधिकृत है।

UPSC एक संवैधानिक निकाय (Constitutional Body) है। जिसका उल्लेख भारतीय संविधान के Part XIV Chapter II, Article 315-323 में किया गया है। ये भारत सरकार के Ministry of Personnel, Public Grievances and Pensions मंत्रालय के अन्तर्गत आती है। 

UPSC Full information in Hindi

आयोग का नाम Union Public Service Commission
स्थापना 1 October 1926
अधिकार क्षेत्र भारत 
Headquarter New Delhi
किस मंत्रालय के अन्तर्गत आता है.Ministry of Personnel, Public Grievances and Pensions
Chariman NameDr. Manoj Soni
Parent departmentभारत सरकार 
Official Websiteupsc.gov.in

UPSC Full Form in Hindi

UPSC का Full Form “Union Public Service Commission” होता है UPSC का फुल फॉर्म हिंदी में “संघ लोग सेवा आयोग” होता है। 

इसका प्रमुख काम भारत में जितने भी बड़े केंद्रीय गवर्नमेंट सर्विस है जैसे की Group ‘A’ के अन्तर्गत आईएस, आईपीएस इत्यादि इनकी नियुक्ति करना। मतलब की सीधा सीधा आप ये जानिए की बड़े अधिकारियों और महत्वपूर्ण पदों की नियुक्ति यूपीएससी के द्वारा की जाती है। इसके लिए Upsc समय-समय पर विज्ञापन की अधिसूचना जारी कर रिक्रूटमेंट करती रहती है। 

UPSC क्या स्थापना कब हुई?

UPSC की स्थापना 1 October 1926 में ब्रिटिश सरकार के द्वारा किया गया था जिसे बाद में गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया एक्ट के तहत इसका नाम बदलकर Federal Public Service Commission कर दिया गया। और जब देश आजाद हुआ तो वर्ष  1950 में इसका नाम बदलकर UPSC कर इसकी स्थापना संविधानिक निकाय के तौर पर की गई।

इसका हेड क्वार्टर नई दिल्ली में स्थित है एवं वर्तमान समय में UPSC के चेयरमैन Dr Manoj Soni है। यूपीएससी के चेयरमैन नियुक्ति देश के राष्ट्रपति के द्वारा की जाती है और उनका कार्यकाल 6 साल या 65 वर्ष की उम्र तक जो पहले पूरी हो जाए तक रहता है। 

UPSC Exam देने की योग्यता क्या है?

UPSC के अंतर्गत जितने भी एग्जाम भारत में आयोजित करवाए जाते हैं एग्जाम में आवेदन करने के लिए आपके पास स्नातक की डिग्री का होना आवश्यक है। यानी की यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए कैंडिडेट्स का ग्रेजुएट होना अनिवार्य है। 

UPSC Exam देने के लिए उम्र सीमा क्या है?

UPSC का एग्जाम देने के लिए सामान वर्ग के कैंडिडेट्स की आयु 21 से 32 वर्ष के बीच होनी चाहिए इसके अलावा अगर आप अनुसूचित जाति,जनजाति से संबंध रखते हैं तो यहां पर आपको अधिकतम उम्र सीमा में पांच वर्ष की छूट प्रदान की जाएगी। इन वर्ग के छात्रों के लिए उम्र सीमा 21 से 37 वर्ष तक निर्धारित की गई है। 

UPSC के प्रमुख कार्य क्या है?

  •  इसका प्रमुख कार्य केंद्र और राज्य स्तर पर उच्च लेवल के अधिकारियों की नियुक्ति करना। 
  • भारत सरकार के प्रशासनिक सेवाओं में जिन अधिकारियों की नियुक्ति की जाती है उनके लिए देश में परीक्षा का आयोजन करवाना। 
  • सिविल सेवा में रिक्त हुए पदों पर भर्ती के लिए प्रत्येक साल विज्ञापन की अधिसूचना जारी करना। 
  • एक सेवा से दूसरी सेवाओं में अधिकारियों का ट्रांसफर करना। 
  • देश के सिविल सेवाओं के नियम और कर्तव्य के लिए दिशा निर्देश जारी करना। 
  •  देश के राष्ट्रपति संघ लोक सेवा आयोग में किसी विशेष मामले में परामर्श देना। 

UPSC के द्वारा देश में कौन-कौन से एग्जाम आयोजित करवाए जाते हैं। 

  •  भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS)
  • भारतीय विदेश सेवा (IFS)
  •  भारतीय पुलिस सेवा (IPS)
  • भारतीय राजस्व सेवा (कस्टम एंड सेंट्रल एक्साइज) ग्रुप ए (Indian Revenue Service)
  • भारतीय राजस्व सेवा (आईटी) ग्रुप ए
  • भारतीय डाक सेवा, ग्रुप ए (Indian Postal Service)
  • भारतीय सूचना सेवा (जूनियर ग्रेड), ग्रुप ए
  •  इंडियन पी एंड टी अकाउंट्स एंड फाइनांस सर्विस, ग्रुप ए
  •  इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट्स सर्विस, ग्रुप ए
  • इंडियन डिफेंस अकाउंट्स सर्विस, ग्रुप ए
  • इंडियन ट्रेड सर्विस, ग्रुप ए (ग्रेड-3)
  •  इंडियन कॉर्पोरेट लॉ सर्विस, ग्रुप ए
  •  दिल्ली, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, दमन दीव और दादर नागर हवेली पुलिस सेवा, ग्रुप बी
  •  पुडुचेरी प्रशासनिक सेवा, ग्रुप बी
  • पुडुचेरी पुलिस सेवा, ग्रुप बी
  •  दिल्ली, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, दमन दीव और दादर नागर हवेली सिविल सेवा (प्रशासनिक), ग्रुप बी
  •  इंडियन डिफेंस एस्टेट सर्विस, ग्रुप ए
  • रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स में असिस्टेंट सिक्योरिटी कमिश्नर का पद
  •  इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस, ग्रुप ए
  • इंडियन रेलवे पर्सनल सर्विस, ग्रुप ए
  •  इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस, ग्रुप ए
  •  इंडियन ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज सर्विस, ग्रुप ए
  • इंडियन सिविल अकाउंट्स सर्विस, ग्रुप ए
  •  आर्म्ड फोर्सेस हेडक्वार्टर्स सिविल सर्विस, ग्रुप बी (सेक्शन ऑफिसर्स ग्रेड)

ये भी पढ़े –

UPSC Exam Pattern in Hindi

अगर आप यूपीएससी एग्जाम देना चाहते हैं तो आपको इसके एग्जाम पैटर्न के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। इसका एग्जाम कुल मिलाकर 3 चरणों में आयोजित किया जाता है जो की इस प्रकार है। 

  • प्रारंभिक परीक्षा – 400 अंक 
  •  लिखित परीक्षा – 1750 अंक
  •  इंटरव्यू – 275 अंक

यानी कुल मिलाकर आपको यहां पर 2025 अंक का एग्जाम देना पड़ेगा और इस एग्जाम को पास करने के बाद ही आप ऊंचे दर्जे के अधिकारी के पदों पर नियुक्त हो पाएंगे। 

UPSC Exam Syllabus in Hindi

अगर हम यूपीएससी एग्जाम के सिलेबस के बारे में बात करें तो मैं आपको बता दूं कि यहां पर लिखित परीक्षा दो पेपरों के होगी पहला पहला प्रारंभिक दूसरा मुख्य परीक्षा होगा इसके बाद आपका इंटरव्यू यहां पर होगा मैं आपके इसके दोनों पेपरों के सिलेबस के बारे में नीचे विस्तार पूर्वक जानकारी दूंगा आइए जाने-

प्रारंभिक परीक्षा का सिलेबस –

यूपीएससी के प्रारंभिक परीक्षा का सिलेबस की बात करें तो यहां पर आपको दो पेपर के एग्जाम देने होंगे मैं उन सभी पेपर के सिलेबस के बारे में नीचे जानकारी दी गई है। 

पेपर I : सामान्य अध्ययन -I (200 अंक), अवधि: दो घंटे

  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाएं।
  • भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन।
  • भारतीय और विश्व भूगोल-भौतिक, सामाजिक, भारत और विश्व का आर्थिक भूगोल।
  •  भारतीय राजनीति और शासन-संविधान, राजनीतिक व्यवस्था, पंचायती राज, सार्वजनिक नीति, अधिकार मुद्दे, आदि।
  •  आर्थिक और सामाजिक विकास-सतत विकास, गरीबी, समावेश, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की पहल आदि।
  • पर्यावरणीय पारिस्थितिकी, जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन पर सामान्य मुद्दे
  • सामान्य विज्ञान

पेपर II : सामान्य अध्ययन II (CSAT)- (200 अंक), अवधि: दो घंटे

  • संचार कौशल सहित पारस्परिक कौशल
  • तार्किक तर्क और विश्लेषणात्मक क्षमता
  •  निर्णय लेना और समस्या समाधान
  • सामान्य मानसिक क्षमता
  •  बुनियादी संख्या (संख्या और उनके संबंध, परिमाण के आदेश, आदि) (कक्षा X स्तर),
  •  डेटा व्याख्या (चार्ट, रेखांकन, तालिकाओं, डेटा पर्याप्तता आदि) – कक्षा X स्तर)

इस चरण को अगर आप पास कर जाते हैं तभी जाकर आप मुख्य परीक्षा में बैठने के योग्य माने जाएंगे और इस परीक्षा को पास करने के लिए आपको कम से कम 33% यहां पर नंबर लाने होंगे तभी आपको दूसरे चरण के लिए क्वालीफाई माना जाएगा। 

मुख्य परीक्षा का सिलेबस

यूपीएससी के मुख्य परीक्षा के सिलेबस के बारे में बात करें तो यहां पर आपको कुल मिलाकर 9 पेपर देने होंगे जिनमें से 7 पेपर Compulsory होते हैं और दो पेपर Optional (जिसका चयन आप अपने अनुसार कर सकते हैं) होते हैं। ये सभी पेपर  250 अंकों का होता है।  

इंटरव्यू

यूपीएससी परीक्षा का तीसरा और अंतिम पड़ाव है इंटरव्यू जब उम्मीदवार प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा को पास कर जाता है तब जाकर उसे इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है और इंटरव्यू में कुल मिलाकर 275 अंक के सवाल जवाब कैंडिडेट्स से पूछे जाते है अगर आप इस इंटरव्यू को पास कर जाते हैं। इसके बाद मेरिट लिस्ट  बनती है और अंतिम रूप से चयनित कैंडिडेट्स को IAS, IPS, IFS इत्यादि तमाम पदों पर नियुक्ति की जाती है। 

UPSC Exam कितनी बार दे सकते है। 

यूपीएससी एग्जाम आप कितनी बार दे सकते हैं या इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस वर्ग से संबंध रखते हैं वर्गों के अनुसार यहां पर यूपीएससी एग्जाम देने के लिए विभिन्न प्रकार के मापदंड आयोग के द्वारा निर्धारित किए गए हैं जो इस प्रकार है। 

  • Unserved Category – 6 बार
  • OBC – 9 बार
  • SC/ST उम्मींदवार को 37 वर्ष की आयु तक

UPSC परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

जैसा की आपलोग जानते ही है की यूपीएससी परीक्षा कितना कठिन है ऐसे में इसकी तैयारी करने का decision लेना ही अपने आप में एक बड़ी बात है। आइये निचे बिन्दुवार कुछ बाते जानेंगे जिससे आपको ये एग्जाम क्रैक करने में मदद मिलेगी। 

1. रणनीति बनाये और खुद को इस एग्जाम के लिए तैयार करें 

यूपीएससी परीक्षा का नाम दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में आता है। ऐसे में अगर आप इसकी तैयारी सही रणनीति के साथ नहीं करेंगे तो आपको इस एग्जाम को क्लियर करने में कई वर्ष लग जायेंगे या शायद आप परीक्षा पास कभी कर भी न पाएं। मैं आपको Demotivate नहीं कर रहा, इस एग्जाम की असलियत से रूबरू करवा रहा हूँ। 

मैं तो आपसे यही कहूँगा अगर आपने सिविल सेवा में जाने का मन बना लिया है तो इसकी तैयारी आप 12th करने के बाद से ही शुरू कर दें।  इसके साथ इस एग्जाम की तैयारी के दौरान होने वाले कठिनाइओं का सामना करने के लिए भी आप खुद को Mentally, Physically तैयार कर लें। 

2. Study Material तैयार करें 

यूपीएससी क्या किसी भी एग्जाम की तैयारी करने के लिए सबसे पहले आधार को मजबूत करना होता है तभी आप लम्बे रेस के लिए खुद को तैयार कर रहे होंगे। इस एग्जाम की तैयारी करने के लिए सबसे पहले आप Basic से शुरुआत करे। इसके लिए आप छठवीं से लेकर बारहवीं तक के NCERT का विषयवार गहन अध्यन करें। 

एनसीआरटी की किताबे अच्छे तरीके से पढ़ने के बाद ही आप दूसरे किसी पब्लिकेशन की किताबें पढ़े। इसके अलावे बेहतर स्टडी मटेरियल के लिए आप किसी कोचिंग या एक्सपर्ट की मदद ले सकते है।

3. Time Table बनायें

UPSC की परीक्षा एक ऐसी परीक्षा है जिसमे आपको लम्बे समय तक प्रतिदिन कई घंटे की पढाई करनी होती है। तो इसके लिए आप Time Table जरूर बनाए और अपने स्टडी टेबल के सामने दिवार पर चिपका दे इसके अलावा सिलेबस को भी अच्छे से अपने पास रखे और इसके अनुसार ही तैयारी करें। 

और कोशिश करें की टाइम टेबल को प्रतिदिन फॉलो करे तभी आप यूपीएससी की कठिन सिलेबस को निर्धारित समय में ख़त्म कर पाएंगे। और रोजाना कम से कम 8 घंटे की एकाग्रता के साथ पढाई जरूर करें। ऐसे तो पढाई को घंटे में नहीं तौला जा सकता है क्यूंकि सब की दिमाग का sharpness अलग अलग होता है। फिर भी आपको पढाई तो करनी ही होगी। 

4. विषयों का चयन सही से करें 

सिविल सेवा परीक्षा में वैकल्पिक विषयों का चयन करते समय आप कोशिश करें की अपने रुचीं वाले वाले विषय का ही चयन करें। ऐसे तो आप किसी भी विषय पर मेहनत के बदौलत उस पर काबू पा सकते है। पर अगर वो आपके पसंद का विषय होगा तो आप उसमे कम्फर्टेबल महसूस करेंगे। आप कोशिश करें की आपने जिस किसी विषय से ग्रेजुएशन किया है उसे ही वैकल्पिक विषय के रूप मे चयन करें। क्यूंकि इस परीक्षा की प्रकृति ही ऐसी है की आपको लम्बे समय तक पढ़ना पड़ सकता है। तो आपको रुचि होना आवश्यक है। 

5. Current Affairs की तैयारी ऐसे करें 

यूपीएससी की परीक्षा पास करने में करंट अफेयर्स का बहुत ही बड़ा योगदान होता है। ऐसे में अगर आप इसकी तैयारी सिलसिलेवार तरीके से करें तो आप करंट अफेयर्स में अच्छा मार्क्स पा सकते है। करेंट अफेयर्स की तैयारी के लिए आप रोजाना द हिन्दू , इंडियन एक्सप्रेस, टाइम्स ऑफ़ इंडिया इत्यादि न्यूज़पेपर पढ़ सकते है इसके अलावा आप बीबीसी, संसद टीवी जरूर सुने या देख सकते है इसके साथ साथ मैगज़ीन का सहारा भी ले सकते है। 

6. लिखने की प्रैक्टिस करें 

सिलेबस को अच्छे ढंग से पढ़ने के अलावा आप रोजाना लिखने की प्रैक्टिस भी जरूर करें। क्यूंकि प्रारंभिक परीक्षा पास करने के बाद Main परीक्षा में आपको लिखना पड़ता है। Main परीक्षा में 200 से 300 शब्दों में उतर लिखना पड़ता है। ऐसे में अगर आप प्रतिदिन किसी टॉपिक पर लिखेंगे तो आपकी लेखन क्षमता में काफी सुधार आएगा और आप अच्छे ढंग से सही सही मीनिंगफुल बातें लिख पाएंगे। 

FAQs –

Q. UPSC का फूल फॉर्म क्या होता है?

Ans – UPSC का Full Form Union Public Service Commission होता है जिसे हिंदी में संघ लोग सेवा आयोग कहा जाता है। 

Q. UPSC CSE का फूल फॉर्म क्या होता है?

Ans – UPSC का फुल फॉर्म Union Public Service Commission और CSE का Civil Service Examination होता है।

Q. UPSC पास करने के बाद कौन सी नौकरी मिलती है?

Ans – यूपीएससी की परीक्षा पास करने के बाद आईएस, आईपीएस, आईएफएस इत्यादि पदों पर आपका आपका चयन होता है।

Q. IAS की तैयारी में कितना खर्चा आता है?

Ans – आईएस परीक्षा की तैयारी करने में कितना खर्च आएगा ये इस बात पर निर्भर करता है की आप खुद से ही तैयारी कर रहे है या कोई कोचिंग का सहारा ले रहे है या आप कही अपने घर से दूर रहकर तैयारी कर रहे है। हालाकिं आप चाहे तो इसके लिए स्टडी मटेरियल 10 हजार रूपये तक आ जा जायेंगे।

Q. आईएस बनने के लिए लड़कियों की कितनी हाईट होनी चाहिए?

Ans – लड़कियों को आईएस बनने के लिए ऐसा किसी भी प्रकार का मिनिमम हाइट या फिजिकल क्राइटेरिया नहीं है। हाँ आईपीएस के लिए 165 cm पुरुष का और 150 cm महिलाओं का होना जरुरी है।

Q. क्या UPSC और IAS एक ही होता है?

Ans – जी नहीं ये दोनों अलग अलग होता है। UPSC भारत सरकार का एक केंद्रीय रिक्रूटमेंट एजेंसी है। यूपीएससी के द्वारा आयोजित होने वाली सिविल सर्विस परीक्षा के माध्यम से आईएस अधिकारी बनते है।

Q. यूपीएससी की तैयारी के लिए दिल्ली जाना जरुरी है?

Ans – ऐसी कोई जरुरी नहीं है की यूपीएससी की तैयारी करने के लिए आपको दिल्ली जाना जरुरी ही है। आप चाहें तो अपने घर से ही सही स्ट्रेटेजी और अच्छे mindset के साथ घर से ही परीक्षा की तैयारी कर इसे क्रैक कर सकते। है

निष्कर्ष – आशा करता हूँ आपको ये आर्टिकल UPSC क्या है? UPSC Full Form in Hindi अच्छा और ज्ञानवर्धक लगा होगा, अब आप अच्छे तरीके से यूपीएससी परीक्षा के बारे में जान गए होंगे, अगर ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों, सग्गे सम्बन्धियों के साथ भी जरूर शेयर करें किसी भी प्रकार का सवाल सुझाव आप कमेंट के माध्यम से कर सकते है, धन्यवाद!

इन्हें भी पढ़े –

नमस्कार दोस्तों, मैं Rahul Niti एक Professional Blogger हूँ और इस ब्लॉग का Founder, Author हूँ. इस ब्लॉग पर मैं बहुत से विषयों पर लिखता हूँ और अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से उपयोगी और नईं-नईं जानकारी शेयर करता रहता हूँ।

Leave a Comment